Mud Therapy

Mud Therapy

बेकार समझी जाने वाली मिट्टी है बड़े काम की चीज़ इसके प्रयोग से कब्ज,गैस औऱ एसिडिटी की बीमारी से छुटकारा मिलता है। 

 धरती अपने आप कितनी कीमती चीजें छुपाए हुए है इस बात का अंदाजा हमें नहीं है, तभी तो हम मिट्टी को एक मामूली चीज समझते हैं। मगर क्या आपको पता है यह मिट्टी आपको गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिला सकती हैं। तो कैसे करें इसका इस्तेमाल आइए जानते हैं...

मिट्टी चिकित्सा

प्राकृतिक चिकित्सा (नेचुरोपैथी) के अनुसार मिट्टी में कैल्शियम, सल्फेट, पोटेशियम आदि तत्व होते हैं। इनके सही इस्तेमाल से कई बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है। इसके इस्तेमाल की प्रक्रिया को मिट्टी चिकित्सा (मड थेरेपी)कहा जाता है।

मिट्टी चिकित्सा का इतिहास...

मड थेरेपी का प्रयोग हजारो वर्षो से होता आया है।इसका इस्तेमाल महात्मा गांधी भी किया करते थे। मड थेरेपी का प्रयोग ज्यादातर वे अनशन के दौरान किया करते थे।

कौनसी मिट्टी का प्रयोग करे

प्राकृतिक चिकित्सक के अनुसार अगर जमीन में  4 से 5 फीट गहराई में मिलने वाली मिट्टी का इस्तेमाल करें तो उससे कई रोगों से बचा जा सकता है। जैसा कि आप जानते है, हमारा शरीर पंचतत्वों से बना है और मिट्टी में भी ये पांच तत्व पाए जाते हैं इसलिए यह बीमारी को जड़ से खत्म कर देती है।

कैसे प्रयोग करे?
साफ मिट्टी को 24 घंटे पहले पानी मे भिगो दें,इस मिट्टी को पेट,सर,(ललाट) आंखों पर मास्क (लेप) की तरह या पट्टी लगा दिया जाए और इसे करीब 20 मिनट तक रखा जाता है तो शरीर की विषाक्तता निकल जाती है।सम्पूर्ण शरीर पर भी लगाना बहुत फायदेमंद रहता है।

कब प्रयोग करे...
मिट्टी चिकित्सा आपको सुबह के समय करनी होती है। सामान्यतः मिट्टी चिकित्सा रोजाना या एक दिन छोड़कर एक दिन करते है, तो इसका ज्यादा लाभ होगा। 

क्या लाभ है...

मिट्टी चिकित्सा से अतिअम्लता (हायपरएसिडिटी) की समस्या से छुटकारा मिलता है।मिट्टी कई तरह की बीमारियों से लड़ने में सक्षम है, लेकिन इसका सबसे ज्यादा फायदा कब्ज की समस्या में होता है।
जिस किसी के बदहजमी रहती हैं, उनके लिए भी मिट्टी चिकित्सा बहुत कारगर है। इसे पेट पर लगाने से मेटाबोलिज्म तेज होता है, जिससे खाना आसानी से पच जाता है। इससे पेट फूलने की समस्या भी दूर होती है।

 

अन्य फायदे...
●मड थेरेपी (मिट्टी चिकित्सा) उन लोगों के लिए भी कारगर है,जिनके शरीर में गर्मी रहती हैं। जब हमारा शरीर परिश्रम करने से थक जाता है, और हाथ-पैर गर्म हो जाते हैं। इससे बचने के लिए हाथ और पैर के तलवे में मिट्टी का लेप 25 मिनट तक लगाना बहुत फायदा देता है, बाद में पानी से धो लें। इससे परेशानी दूर हो जाएगी।

●यह बुखार और वायरल इन्फेक्शन को भी ठीक करने में मदद करता है। क्योंकि मिट्टी में मौजूद पोषक तत्व विषेले तत्वों को खींच लेती है और इस प्रकार संक्रमण का खतरा कम हो जाता है। ये व्यक्ति की इम्यूनिटी (रोग प्रतिरोधकता) को बढ़ाने में भी मदद करता है, जिससे व्यक्ति को बीमारियां जल्दी नहीं प्रभावित कर सकती है।

●मडथेरेपी त्वचा की बीमारियों को ठीक करने का भी रामायण उपाय है। ये त्वचा में मौजूद गंदगी को दूर कर उसे पोषण देता है। जिससे त्वचा पर दाने कील-मुँहासे नही आते है।

  • By Yogvansham
  • 22-Apr-2020 13:30:18 PM
  • 14
  • Naturopathy

Comments

KQGDsoNipfrJjE 30-Sep-2020 / Reply

LrgTKmMfkJ

VEYzpTHXDqxas 30-Sep-2020 / Reply

RKnoZiBaUIc

fjvkBMPxT 12-Oct-2020 / Reply

fHzPrpGTovm

vZqtWxPolahJFQ 12-Oct-2020 / Reply

PEwelDUmzduCq

OKhobJecfaRIPl 26-Oct-2020 / Reply

mPFQlMHwtnri

pmXlwHsqngoWk 26-Oct-2020 / Reply

wMjmHnugIDWkQBY

kLUFlhMQucpa 09-Nov-2020 / Reply

impnzQcNU

WDkyLsXFcBIJVt 09-Nov-2020 / Reply

xmzeAWUKvQGNqhF

BdGCacbfgvexXwAl 26-Nov-2020 / Reply

hBKUsQXPJlr

JwujqQGPaWfBFxv 26-Nov-2020 / Reply

THmtNIdwbnfcMuys

hiwPWjoU 11-Dec-2020 / Reply

MoUYLguVOzyFWX

ugQNCRsUZXGlqzS 11-Dec-2020 / Reply

JfpIGwUoq

aSpPuQfLjs 26-Dec-2020 / Reply

TvPNecWMKHbGS

yHkJnBmdTIK 26-Dec-2020 / Reply

MdtRsnowKxJjmzb

Leave a Comment